A A

रतलाम- ब्राह्मण स्वर्णकार समाज की भागवत कथा….

Mon, Sep 10, 2012

News

रतलाम
जिसका मन व दामन साफ होता है वह सुदामा कहलाता है। व्यक्ति को जीवन में सदैव परोपकार की भावना रखना चाहिए। ज्ञान धर्म से उत्तम होता है। व्यक्ति आज खाने-कमाने तक सीमित हो गया है।

यह बात वृंदावन से पधारे आचार्य राममिलन शास्त्री ने ब्राह्मण स्वर्णकार समाज की बाजना बस स्टैंड के जगदीश भवन में चल रही संगीतमय श्रीमद्भागवत कथा के विश्राम पर कही। विश्राम पर चल समारोह निकाला गया।

दोपहर 1 बजे पूर्णाहुति हुई। रमेश सोनी द्वारा पोथीपूजन के बाद 108 दीपों से आरती की गई। इसके बाद चल समारोह निकला। भागीरथ सोनी, मदनलाल सोनी, मनोहर सोनी, कैलाश सोनी जावरावाला, नंदकिशोर सोनी, योगेश सोनी, धर्मेंद्र सोनी, ओमजी सोनी, विजय सोनी, प्रहलाद सोनी, अनिल सोनी मौजूद थे। कथा में दीपक राठौड़, राजेंद्र व्यास, अमित शुक्ला आदि ने प्रस्तुति दी।

Source : D. Bhaskar

Tags: ,

:like>

Leave a Reply

Ahmedabad Ajmer Barmer beawar Bhinmal Bikaner Didwana gandhinagar General Himmatnagar Jalore Jobat jodhpur Keradu kumbhalgarh merta Mumbai Nagaur News Paper pali Sheoganj sirohi swarn jagriti अजमेर अहमदाबाद जालौर जूना केराडू जोधपुर जोबट कुंभलगढ़ गांधीनगर नागौर पाली बाडमेर बीकानेर ब्यावर भीनमाल मुम्बई मेड़ता शिवगंज समाचार पत्रिका सर्वसामान्य सिरोही स्वर्ण-जागृति हिम्मतनगर

Find

© 2015 Brahmin Swarnkar. Powered by Next On Web