अखिल भारतीय श्री ब्राह्मण स्वर्णकार नवयुवक मण्डल की बैठक सम्पन्न।

दि. १०.१२.२०११ को आचार्य भिक्षु समाधि स्थल सिरियारी जिला पाली (राज.) में अखिल भारतीय श्री ब्राह्मण स्वर्णकार नवयुवक मण्डल की कार्यकारिणी की द्वितीय बैठक रखी गई। जिसमें विशेष रूप से आंमत्रित महासभा के प्रमुख पदधिकारियों श्री भंवरलालजी स्वर्णकार अध्यक्ष, उपाध्यक्ष श्री श्यामकमलजी जोधपुर, महामंत्री श्री गोविद प्रकाशजी की गौरव पूर्ण उपस्थिति रही। सभा में निम्नांकित विषयों पर निर्णय लिये गये।

१. स्थानीय स्तर पर संगठन के गठन हेतु प्रयास किये जाए जिला स्तर पर संयोजक की नियुक्ति करके जिला स्तरीय संगठन बनाकर समाज कें नई चतेना का विकास किया जाए। इस निर्णय को क्रियान्वयन करते हुऐ महासभा के उपस्थित पदाधिकारी की सम्मति से अ.भा. नवयुवक मण्डल के राष्ट्रीय संयोजक श्री गजेन्द्रजी सोनी ने पाली जिले में श्री ब्राह्मण स्वर्णकार नवयुवक मण्डल के जिला संयोजक पद पर श्री ओमप्रकाश जी मण्डोरा (सोजत रोड) को नियुक्त किया। साथ यह भी निर्णय किया गया कि नियुक्त जिला संयोजक समाज मे गतिविधि दलों का संचालन करके जिला स्तरीय संगठन बनाये।

२. महु (म.प्र.) से आए श्री धरम सोनी ने देश भर में नवयुवक मण्डलों के गठन हेतु राष्ट्रीय सम्मेलन किये जाने का प्रस्ताव रखा जिसे सर्व सम्मति से स्वीकार किया गया।

३. राजनिति में रूचि एवं हस्तक्षेप रखने वाले नवयुवक एवं महिलाओं का आर्थिक एवं सामजिक सहायता के लिए महत्वपुर्ण निर्णय किए जाए। इस सम्बन्ध में महासभा से निवेदन किया गया कि एक वृहद कोष का संग्रह महासभा के नेतृत्व मे किया जाए तथा सामाजिक नीतियों का निर्धारित करने के लिए राजनीति में सक्रीय समाजजन का सहयोग किया जावे।

पूर्ण घोषणानुसार स्मारिका का प्रकाशन किया जावे स्मारिका की विषय वस्तु सग्रंहणीय हो ऐसा प्रयास किया जावे।  साथ ही स्मारिका में देशभर में गठित नवयुवक मण्डल के अध्यक्ष एवं सचिव के फोटो के साथ सम्पुर्ण कार्यकारिणी का परिचय भी स्मारिका में प्रकाशित किया जाए ऐसा निर्णय किया गया।

अखिल भारतीय श्री ब्राह्मण स्वर्णकार नवयुवक मण्डल की बैठक में अ.भा.श्री ब्राह्मण स्वर्णकार महासभा के महामंत्री श्री गोविन्द प्रकाशजी भजुड ने सम्पुर्ण भारतवर्ष  के समाज के नवयुवको का समाज में प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष योगदान हेतु आह्‌वान करते हुए कहा आज विश्वभर में तकनीक के माध्यम से युवा ही हर क्षेत्र मे अग्रणी है। समाज में भी युवा वर्ग आगे आकर कार्य करता है तो समाज का छोटा से छोटा परिवार भी समृद्धि की गति पकड़ लेगा। साथ ही गठित नवयुवक मण्डल से अपेक्षा करते हुए कही कि शीघ्र ही सम्पुर्ण भारतवर्ष में छोटे से छोटे स्थान में भी नवयुवक मण्डल के माध्यम से समाज में सक्रियता का संचालन हो सकेगा।

इस अवसर पर महासभा के अध्यक्ष श्री भंवरलालजी स्वर्णकार ने कहा कि वर्तमान समय में नवयुवक आधुनिक तो हो रहा है मगर सामाजिक जिम्मेदारी से पिछा छुड़ना चाहता है। आपने कहा कि युवकों की अपेक्षा युवतियाँ द्वारा उच्च शिक्षा प्राप्ति का अनुपात अधिक होने से युवतियाँ अन्य समाज में ब्याही जा रहीं है। अतः नवयुवको को उच्च शिक्षा पर अधिक ध्यान देना चाहिए। साथ ही अध्यक्ष महोदय ने कहा कि –

नवयुवक मण्डल की केन्द्रिय समीति बनाई जाए जो देशभरं की विभिन्न स्थानो की नवयुवकों समितियों को कार्यक्रमों हेतु प्रोत्साहित करती रहे।

महासभा प्रतिभावान छात्रो कों प्रोत्साहित करनें के लिए तथा आगे उच्च शिक्षा की प्राप्ति के लिए छात्रवृति की योजना बनाकर क्रियान्वित कर चुकी है। हमें बोर्ड में श्रेष्ठ नम्बरो से उत्तिर्ण छात्र छात्राओं की सुचि चाहिए जिससे प्रोत्साहित और पुरस्कृत महासभा द्वारा किया जा सके। स्थानिय सभाओं कें माध्यम से प्रतिभावन छात्र छात्रोओं की  सुचि प्राप्त करनें की बात रखते हुए आपनें कहा सम्पुर्ण भारत  वर्ष में नवयुवकों का स्थानिय संगठन हमारें इस लक्ष्य की प्राप्ति में हमारी सहायता करें। इसलिए आवश्यक है संगठन का गठन नीचे से किया जाए। और इसकी जिम्मेदारी समाज के प्रत्येक युवक की है कि स्थानिय स्तर पर गठन करें। महासभा द्वारा शीघ्र हीं प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन किया जाना है। साथ ही उन्होने कहा की प्रत्येक माह नवयुवको की सभाये होती रहें एसी व्यवस्था बनायें।

महासभा के उपाध्यक्ष श्री श्याम कमलजी ने कहा कि युवकों में शिक्षा की कमी युवतियों के अच्छे शिक्षा स्तर से शैक्षणिक दुरिया बड ती जा रहीं है। ऐसें में अल्पशिक्षत युवक का विवाह जब उच्च शिक्षित लड की से होता है। ऐज्युकेशन गेप का दानव दाम्पत्य जीवन में तलाक या विघटन की स्थितिया बना देता है। अतः युवको को शि क्षा की और विशेष ध्यान देना होना।

अखिल भारतीय श्री ब्राह्मण स्वर्णकार नवयुवक मण्डल के माध्यम से आपने कहा कि आने वाली पीढी में संस्कारों की कमी न हों, समाज का महत्व जाने और संयमित जीवन जीने की संस्कृति आने वाली पीढी सीखे इसके लिए राष्ट्रिय नवयुवक मण्डल प्रचार-प्रसार करें।

स्वर्ण व्यापार एवं व्यवसाय के लिए आपने कहा कि- सिर्फ सराफी कार्य ही नहीं सुनारी काम भी करें। कारिगरों पर आश्रीत न रहें। हुनर सिखे, हुनर अपनें हाथ में रखें और हुनर का उपयोग भी करते रहे। सराफ होना और बड़ा व्यापार करना या विशाल शोरूम का स्वामी और संचालक होना गौरव की बात है मगर सुनारी कार्य में आत्मनिर्भरता उससे बडा गौरव होंगा अतः कारीगरी का कार्य भी सिखे एवं करते रहे। स्वंय कार्य करे और अपने पुश्तेनी इस कार्य पर कब्जा बनाये रखें।

नवयुवक मण्डल के अध्यक्ष की श्री गजेन्द्रजी सोनी ने कहा कि- शीघ्र ही देशभर में अखिल भारतीय नवयुवक मण्डल द्वारा युवा शिक्षा चेतना यात्रा की जावेगी। जिससे समाज के युवकों को संगठीत करकें समाज मे शिक्षा, समृद्धि, सर्वकार्य में दक्षता हेतु सामुहिक प्रयास किये जाएगें। आपने कहा कि भारत वर्ष में छोटे से छोटे समाज का ससंद सदस्य या विधायक मिल ही जाएगा मगर साठ वर्षो के इतिहास में हमारे समाज का संसद सदस्य तो ठीक कोई MLA भी नहीं हुआ अतः हम सामुहिक प्रयासों से सक्रीय राजनीति में समाज के व्यक्ति का राजनीतिक पार्टियों के मतभेदो को भुला कर साथ देना चाहिए।

अ.भा. श्री ब्राह्मण स्वर्णकार नवयुवक मण्डल के सहसंयोजक एवं स्मारिका स्वर्ण सूत्रम के मुखय सम्पादक डॉ. अशोक शर्मा ने कहा कि देश भर में छोटे से छोटे स्तर पर समाज का सक्रिय संगठन हमें शीघ्र बनना हैं। आपसी व स्थानिय विवादों से परे नवयुवकों की समिति बनाकर शिक्षा, संस्कृति, संस्कार और सामाजिक वृद्धि हेतु सामुहिक प्रयास करना है। समाज में व्याप्त अलगाव और क्षेत्रवाद से हमारा पुश्तेनी कार्य, कलाकारी और रोजगार हमसे दुर हो गयें है। आज भी नहीं सम्भल सकते तो विघटन की गति हमें गर्त में ही ले जाएगीं। अतः सामुहिक एकता पर बल देना अति आवश्यक है।

अहमदाबाद से आए कमलेशजी सोनी एवं सोहनजी सोनी की नवयुवक मण्डल भी सभा में प्रथम बार उपस्थिति रही। इस अवसर पर सोहन सोनी द्वारा  व्यवसाय में पुलिस केस की स्थिति पर भी योजनाए बनाने की बात रखी।

बडनगर, उज्जैन से आऐ नवयुवक मण्डल के कोषाध्यक्ष ब्रजेशजी सोनी ने सभा मे उपस्थित समस्त समाजजनों की आभार माना और आचार्य भिक्षु समाधी स्थल सिरियारी के अध्यक्ष श्री सुरेन्द्र कुमारजी सुराणा सा. को धन्यवाद प्रेषित किया।

विशेषनोट :- कृपया स्थानीय संगठनों की जानकारी पदाधिकारी के पद नाम तथा अध्यक्ष एवं सचिव की फोटो स्मारिका में प्रकाशन हेतु निम्न पते पर प्रेषित करे।

स्वेच्छिक रक्त दाताओं के नाम मो. नम्बर तथा रक्त समुह (ब्लड ) की जानकारी भी प्रेषित करें।

– डॉ. अशोक शर्मा

‘मातृछाया’

७९ तिलकमार्ग,

झण्डाबाजार (पेटलावद जिला झाबुआ म.प्र.)

पिन कोड :- ४५७७७३

मो. ०९४२५४१४२२५

०७३९१-२६५३११

प्रेषक :-

डॉ. अशोक शर्मा

सहसंयोजक एवं कार्यवाहक महासचिव

अखिल भारतीय श्री ब्राह्मण स्वर्णकार

नवयुवक मण्डल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *