समाज की प्रतिभाऍं – हास्य व्यंग्य कवि मधुकर व मीनाक्षी स्वर्णकार को बीकानेर रत्न सम्मान-२०११

बीकानेर। २५.०९.२०११ रविवार

राजस्थान प्रदेश राजीव गांधी यूथ फैडरे्शन बीकानेर द्वारा ब्राह्मण स्वर्णकार समाज के वरिष्ठ हास्य व्यंग्य कवि श्री गौरी्शंकर मधुकर तथा युवा कवयित्री कु० मीनाक्षी स्वर्णकार को ‘बीकानेर रत्न सम्मान २०११’ से सम्मानित किया गया है।

फैडरेशन द्वारा टाऊन हॉल में आयोजित ‘बीकानेर रत्न सम्मान समारोह तृतीय २०११’ में मुखय अतिथि जिला प्रमुख रामेश्वर डूडी, वि० अतिथि वरिष्ठ साहित्यकार भवानी शंकर व्यास ‘विनोद’ फैडरे्शन के प्रदे्शाध्यक्ष मो० रमजान रंगरेज ने मधुकर और मीनाक्षी को उनकी उल्लेखनीय साहित्यिक सेवाओं के लिए यह सम्मान प्रदान किया। कार्यक्रम के संचालक संजय पुरोहित ने मधुकर एवं मीनाक्षी की साहित्यिक उपलब्धियों पर प्रकाश डाला।

सम्मान समारोह उपरांत युवा साहित्यकार अ्शफ़ाक कादरी, संजय आचार्य ‘वरूण’ वरिष्ठ चित्रकार मुरली मनोहर माथुर, लेखक राजाराम स्वर्णकार, रंगकर्मी बी०एल० नवीन, बाबुलाल छंगाणी एवं सुवर्ण संस्कार पत्रिका के संपादक रामे्श्वर बाड मेरा ‘साधक’ ने मधुकर और मीनाक्षी को बधाई दी।

उल्लेखनीय है कि श्री गौरीशंकर मधुकर की पुस्तकें ‘नदी नहीं थकती’, ‘कांजी में डूबा रसगुल्ला'( हिन्दी) तथा बगत रो बेग (राजस्थानी) काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं। कु० मीनाक्षी स्वर्णकार का काव्य संग्रह ‘ कोंपलें’ प्रकाशित हो चुका है जिसे राजस्थान साहित्य अकादमी उदयपुर द्वारा ८०००/- रूपयें प्रकाशित पुस्तक पर सहयोग प्रदान किया गया।

कवि मधुकर व मीनाक्षी की रचनाऐं राष्ट्रीय स्तर की पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित तथा आकाशवाणी से समय-समय पर प्रसारित हो रही हैं। इनकी रचनाओं का रसास्वादन राष्ट्रीय कवि सम्मेलनों के साथ समाज के कार्यक्रमों  में समय-समय पर होता रहता है। समाज की इन प्रतिभाओं पर हमें गर्व है।

हमारी ओर से बधाई-शुभकामनाऍं।

रामेश्वर बाडमेरा  ‘साधक’

Leave a Reply to Anonymous Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *