26.03.2012 सोमवार को श्री ब्राह्मण स्वर्णकार नवयुवक मण्डल समदडी जिला बाडमेर का गठन………………

@swarnjagriti / www.brahminswarnkar.com

दिनांक 26.03.2012 सोमवार को सांय 6.00 बजे श्री ब्राह्मण स्वर्णकार नवयुवक मण्डल समदडी जिला बाडमेर राजस्थान का गठन स्थानीय श्री ब्राह्मण स्वर्णकार बगेची में अखिल भारतीय श्री ब्राह्मण स्वर्णकार महासभा के संगठन मंत्री श्री हिरालाल जी कटटा की अध्यक्षता में चुनाव सम्पन्न हुवें जिनमें निम्न पदाधिकारी व कार्यकारणी सदस्य निविरोध चुने गयें जो निम्न प्रकार है।

पदाधिकारी

1- अध्यक्ष – श्री नरेन्द्र कुमार हेड़ाऊ सुपुत्र श्री गोकलचन्द जी 2- उपाध्यक्ष – श्री विष्णु हेड़ाऊ सुपुत्र श्री कानाराम जी 3- उपाध्यक्ष – श्री हरीश हेड़ाऊ सुपुत्र श्री बक्सीराम जी 4- सचिव – श्री रामधन बाडमेरा सुपुत्र श्री गोविन्दराम जी 5- उपसचिव – श्री चन्द्रप्रकाश मुथा सुपुत्र श्री द्धारकादास जी 6- कोषाध्यक्ष – श्री विने्श हेड़ाऊ सुपुत्र श्री पन्नालाल जी 7- प्रचार मंत्री – श्री मदनलाल बाडमेरा सुपुत्र श्री कृपाराम जी 8- संगठन मंत्री – श्री सुरेश कुमार महेचा सुपुत्र श्री हीरालाल जी 9- खेल मंत्री – श्री अशोक कुमार महेचा सुपुत्र श्री घेवरचन्द जी

कार्यकारणी सदस्य:-

1- श्री मुकेश हेड़ाऊ सुपुत्र श्री रामनिवास जी 2- श्री पुरूषोत्तम कोटडिया सुपुत्र श्री राणमल जी 3- श्री हरीश कटटा सुपुत्र श्री अम्बा शंकर जी 4- श्री विकास बाडमेरा सुपुत्र श्री रणछोड जी 5- श्री दिलीप महेचा सुपुत्र श्री जवेरीलाल जी 6- श्री श्रवण हेड़ाऊ सुपुत्र श्री राधेष्याम जी 7- श्री दिलिप हेड़ाऊ सुपुत्र श्री लक्ष्मीनारायण जी 8- श्री सोहनलाल महेचा सुपुत्र श्री हिरालाल जी 9- श्री दिनेश महेचा सुपुत्र श्री दलीचन्द जी 10- श्री रमेश कुमार बुचा सुपुत्र श्री चम्पालाल जी 11- श्री ताराचन्द हेड़ाऊ सुपुत्र श्री ओमप्रकाष जी 12- श्री रमेश चितरोडा सुपुत्र श्री हनुमानचन्द जी

उपरोक्त सभी पदाधिकारी व कार्यकारणी सदस्यों को अखिल भारतीय श्री ब्राह्राण स्वर्णकार महासभा के संगठन मंत्री श्री हिरालाल जी कटटा ने शपथ दिलवार्इ ।

कार्यक्रम के अन्त में नवर्निवाचित अध्यक्ष श्री नरेन्द्र कुमार हेड़ाऊ ने श्री हिरालाल जी कटटा को समदडी में नवयुवक मण्डल के गठन कराने के लिये धन्यवाद दिया।

सचिव

(रामधन बाडमेरा) श्री ब्राह्मण स्वर्णकार नवयुवक मण्डल,समदडी

अक्षय तृतीया दिंनाक 24.4.12 को धर्मसी जी कि जयंति पर समाज का स्थापना दिवस पिछले वर्ष कि भांति मनाये…..

दि 16.4.11 को नागपुर मे महासभा कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी कि बैठक मे लिए गए निर्णय अनुसार समाज के सस्थापक धर्मसीजीकि जयंति अक्षय तृतीया पर समाज का स्थापना दिवस अखिल भारतीय स्तर पर मनाने का निर्णय लिया गया था एंव इसी क्रम मे पिछले वर्ष अक्षय तृतीया 6 मर्इ 2011 को समाज का स्थापना दिवस मनाया गया था एंव उस बारे मे परिपत्र दिनांक 20.4.11 को आपको भेजा गया था।

अब उसी अनुक्रम के इस वर्ष अक्षय तृतीया दिंनाक 24.4.12 को धर्मसी जी कि जयंति पर समाज का स्थापना दिवस पिछले वर्ष कि भांति मनाये जिसमे स्थानीय सभाए अपने अपने स्थानो पर शोभा यात्रा, जुल ुस, सभाओ का आयोजन कर समाज का स्थापना दिवस हर्षोल्लास से मनाये एंव इसका स्थानीय पत्र पत्रिकाओ मे व्यापक प्रचार प्रसार करे एंव इस आयोजन कि रिपोर्ट मुझे भी भिजवाए ताकि समाज कि पत्र पत्रिकाओ मे रिर्पार्ट प्रकाशित कि जा सके।

गोविन्द प्रकाश भजुड
महामंत्री
__________________________________________
नोट:- महासभा के पदाधिकारी, कार्यकारिणी सदस्य एंव समितियो के सयोजक अपने अपने स्थानो पर उपरोक्त आयोजन को सुनिश्चत करावे अपका इस कार्यक्रम हेतु विशेष दायित्व है तथा वे अपनी अपनी रिपोर्ट सीर्घ भिजवाने का श्रम करावे ।

बीकानेर- ब्राह्मण स्वर्णकार समाज द्वारा गणगौर का त्योहार धूमधाम से सम्पन्न ।

श्री ब्राह्मण स्वर्णकार समाज की र्इश्वरजी व गणगौर माता की सवारी बड़े ही धूम-धाम से दिनांक 26.03.2012 को निकली, र्इश्वरजी अपने पारम्परिक रौबिले श्वेत वेशभुंषा में सजे हुवे व अस्त्रो के साथ गिराणी सुनारों की गुंवाड में धर-धर जाकर खोल भरवार्इ की रस्म को निभाया गया। जहाँ गर्म जोशी से जगह-जगह स्वागत हुआ।

इघर सुनारो की गुवाड में गणगौर माता की सवारी भी बडें शान से निकली गणगौर माता को बडें ही आकर्षक तरीके से सजाया गया । गणगौर माता स्वर्णाभुषणों को धारण किये व पारम्परिक  किमती लिबास लहंगा ओढनी  के साथ सर पर छत्र धारण किये हुवे थी। सुनारों की गली मौहल्लें में धर-धर जाकर खोल भरवाने की रस्म को अदा किया गया।

गली मौहल्ले में कर्इ स्थानों  पर शीतल पेय से स्वागत एवं गणगौर माता को साडीं औढार्इ गयी । गणगौर माता को उखणने (सर पर इढोनी लगाकर गणगौर माता को उठाकर चलना) की हौडं महिलाओं मे देखी गयी।

जैसे-जैसे दिन ढ़लने लगा श्री ब्राह्राण स्वर्णकार समाज की पंचायत भवन में रौनक बढ़ने लगी,  सांय नौ बजे दोनों र्इश्वरजी व गाणगौर माता जोडे के साथ शान के साथ पंचायत भवन में प्रवेश करते ही सारा वातावरण जयकारो से गुजायमान हो उठा और ऊपर से पुष्प वर्षा की गयी। पंचायत भवन के आंगन में पाटों पर आसन लगा था जहाँ र्इश्वरजी व गणगौर माता बिठाया गया।

महिलाओं ने यहाँ भी खोल भरा एवं प्रसाद का वितरण किया। महिलाओं द्वारा बडा़ ही आकर्षक घूमर डाला गया। समाज के वरिष्ठ नागरिकों द्वारा खुले दिल से प्रंशसा की गयी । भवन की छत से आतिशबाजी की गयी। नव निर्वाचित पंचायत भवन के ट्रस्ट मण्डल द्वारा सभी का स्वागत किया गया। श्री ब्राह्राण स्वर्णकार समाज मस्त मण्डल द्वारा बादाम पिस्ता युक्त शीतल दुध का वितरण प्रसाद के रूप में किया गया।

अध्यक्ष श्री सागरमलजी, उप सचिव श्री सुरेन्द्रजी (इनके धर गणगौर मढ़ी) उपाध्यक्ष श्रीमती मनीषाआर्य,प्रचार-प्रसारसचिव श्रीमती रेणु,श्रीमती रचनाजी, श्री सम्पतजी,कोषाध्यक्ष श्रीबंसतकुमारजी, उपकोषाध्यक्ष श्री जयचंद लालजी,सचिव श्री देवकिशनजी,श्रीसेवारामजी(गणगौर का विशेष श्रृ़ंगार कर्ता),श्री श्री गोपालजी,श्री धनराज जी,श्री झ़़ंवर लालजी उपस्तिथ थे।इन सभी ने मिलकर र्इश्वरजी व गणगौर माता को गजरा पहना कर  बताशे श्रीफल नगद राशि से खोल भरा एवं समाज में सुख शान्ति एवं विकास की कामना की। इस मौके पर समाज के अन्य समितियों के पदाधिकारी एवं सदस्य तथ बड़ी संख्या में महिलाऐं एवं परूष भी उपस्थित थे।

(रेणु सोनी)
प्रचार-प्रसार सचिव

स्वर्ण सुगंधा का वार्षिक उत्सव ‘फाल्गुन-सत्कार, शनीवार 3 मार्च 2o12 को ..

बीकानेर। श्री ब्राह्मण स्वर्णकार महिला समिति स्वर्ण सुगंधा द्वारा अपना वार्षिक उत्सव ‘फाल्गुन-सत्कार  3 मार्च को देशभक्त चौकके पास सुनारों के मौहल्ले में आयोजित किया जाएगा।

इस कार्यक्रम में अखिल भारतीय श्री ब्राह्मण स्वर्णकार महिला संघ के पदाधिकारियों की बैठक एवं महिला काव्य गोष्ठी ‘अभिव्यक्ति’ का आयोजन भी किया जायेगा जिसमें वरिष्ठ महिला कवियित्रयाँ शिरकत करेंगी, कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था संरक्षक श्रीमती सावित्री करेंगी, बतौर मुख्य अतिथि अखिल भारतीय श्री ब्राह्मण स्वर्णकार महिला संघ की सचिव श्रीमती राजश्री लाडनवाल करेगी जो पाली से पधार रही हैं।

विशिष्ट अतिथि श्री ब्राह्मण स्वर्णकार महिला मण्डल नागौर की अध्यक्षा श्रीमती अनुराधा भजुड होगी। इस कार्यक्रम की मुख्य वक्ता शिविरा पत्रिका की पूर्व सम्पादक श्रीमती सुमनसिंह होगी। मंच संचालन श्रीमती मनीषा आर्य करेगी एवं काव्य गौष्ठि का संचालन मौनिका गौड़ करेंगी। प्रचार प्रसार सचिव श्रीमती रेणु सोनी ने बताया कि आगन्तुकों का स्वागत संस्था की अध्यक्ष श्रीमती विमला सोनी, सचिव श्रीमती तारा सोनी एवं उपाध्यक्ष श्रीमती रचना सोनी करेगी।

Vinay Joshi ‘-source : Chhoti kashi

विभिन्न भाषाओं को घर बैठे निशुल्क सिखें …गोविन्द प्रकाश सोनी

आज के विश्वव्यापी दोर में सिर्फ एक भाषा के दम पर आप सेवा बाजार में नहीं टिक सकते। अगर आपको अपनी वैल्यू विश्वबाजार में क्रिएट करनी हो तो आपको विदेशी भाषाओं पर भी कमांड हांसिल कर विदेशी बाजार में प्रवेश कर सकेंगे।

आधुनिक समय में आप अच्छा केरियर बनाना चाहते हैं या विदेशों में नौकरी अथवा स्वर्ण अथवा अन्य व्यवसाय घर बैठे करने की योजना बना रहे हैं, तो आपकी किसी न किसी विदेशी भाषा पर कमांड होना बहुत जरूरी है। इन्टरनेट पर इसके लिए वेबसाईटस है जिनकी मदद से आप विदेशी भाषा पर अच्छी पकड हासिल कर सकते हैं। इसमें http://www.livemocha.com वेबसाईट हिन्दी सहित लगभग तीन दर्जन भाषाऐं सिखाती है।

इस वेबसाईट पर मुफत और दोनों तरह के कोर्स चलते हैं अगर आप नई भाषा सिखनें की शुरूआत कर रहे हैं तो इसका बेसीक कोर्स ले सकते हैं, यह मुफत है। लाईव मौका के लैग्वेज प्रोग्राम में अग्रेजी, स्पेनिश, पुर्तगाली, फ्रेंच, जर्मन, इटैलियन, चीनी, जापानी, रूसी, भाषा के प्रोग्राम बहुत ही अच्छे हैं तथा यह वेबसाईट अपने सदस्यों को आपस में सम्पर्क करने के लिए बढावा देती है तथा एक करोड से ज्यादा लोग इससे जुडे हुऐ हैं । यहाँ पर भाषा सिखने के लिए आपको अपना एकाउण्ट बनाना होगा, फिर सीखने वाली भाषा एवं पढाई का स्तर चुनना होगा।

इसी प्रकार दूसरी वेबसाईट अबाउट कॉस की फ्री डिस्टेंज लर्निंग प्रोग्राम फ्रेच, जर्मन, इटेलीयन, जापानी, चीनी, स्पेनिश और अग्रेजी सीखनें का अच्छा माध्यम है। इस वेबसाईट को http://distancelearn.about.com के नाम से जाना जाता है।

अन्य वेबसाईट में बी.बी.सी. की वेबसाईट  http://www.bbc.co.uk/languages/ अपनी नॉलेज के लिये मशहूर है अब इस वेबसाईट पर जाकर फ्रेंच, स्पेनिश, जर्मन, ग्रीक, चीनी, पुर्तगाली, इटेलियन, एशियन, जैसी भाषाओं को सीख सकते हैं । बी बी सी इन भाषाओं को ओडियों विडियो कोर्स भी उपलब्ध करवाता है जिसके सर्टीफिकेट  भी दिये जाते हैं । बी बी सी पर ४० भाषाओं का छोटा कोर्स भी है। एवं विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम भाषा ज्ञान बढाने वाले हैं।

उपरोक्त भाषाओं का ज्ञान से मेरा आशय यह है कि हमारे समाज के कई व्यक्ति स्वर्ण आभूषणों का व्यापार करते हैं एवं विदेशों में भी उसको विक्रय हेतु भीजवाते हैं तो अगर आपके विभीन्न विदेशी भाषाओं का ज्ञान होगा तो आप अपने तैयार माल को विदेशो में विक्रय करने में सुविधाजनक महसुस करेंगे। एवं आप पढे लिखे हैं तो विदेशों में विभीन्न प्रकार के रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे।

गोविन्द प्रकाश सोनी

एडवोकेट